कल 14 फरवरी को धूमधाम से मनाई जाएगी बसंत पंचमी, राशि के अनुसार करें मां सरस्वती की पूजा

सरस्वती पूजा कल रेवती नक्षत्र में: जानिए राशि के अनुसार कैसे करें पूजा, शुभ मुहूर्त में वाद्य यंत्रों की भी पूजा की जाती है: माघ शुक्ल पंचमी के रेवती नक्षत्र और शुभ योग के संयोग में कल सरस्वती पूजा मनाई जाएगी। यह त्यौहार विद्या, बुद्धि, ज्ञान, संगीत और कला की अधिष्ठात्री देवी देवी सरस्वती को समर्पित है। इस दिन भक्त पीले वस्त्र पहनते हैं। वसंत पंचमी के दिन मां शारदा, भगवान गणेश, लक्ष्मी, नवग्रह के साथ-साथ किताबें, कलम और वाद्ययंत्रों की भी पूजा की जाती है। पूजा के बाद श्रद्धालु एक-दूसरे को अबीर-गुलाल लगाएंगे।

ज्योतिषाचार्य रूपेश चौबे के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण ने भी माघ शुक्ल पंचमी को पीतांबर धारण कर देवी सरस्वती की पूजा की थी। पीला रंग बृहस्पति ग्रह से संबंधित है जिसे ज्ञान, धन और शुभता का कर्क माना जाता है। पीला रंग शुद्धता, सादगी, पवित्रता और अच्छाई का प्रतीक है। सरस्वती पूजा के दिन नवजात शिशुओं का अक्षरंभ संस्कार पारंपरिक विधि से किया जाएगा। इसी दिन से उनकी विद्या की पढ़ाई भी शुरू होगी.

सरस्वती पूजा का शुभ समय

पंचमी तिथि- सुबह 06:28 बजे से शाम 05:52 बजे तक

लाभ और अमृत मुहूर्त- सुबह 06:28 बजे से 09:15 बजे तक

शुभ योग मुहूर्त- सुबह 10:40 से दोपहर 12:04 तक

अभिजीत मुहूर्त- सुबह 11:41 बजे से दोपहर 12:26 बजे तक

चर मुहूर्त- दोपहर 02:52 बजे से शाम 04:17 बजे तक

राशि के अनुसार करें मां सरस्वती की पूजा

मेष- सिन्दूर, लाल फूल, गुलाबी अबीर चढ़ाएं।

वृषभ- हरी कलम और पीले फूल चढ़ाएं।

मिथुन- सफेद रंग की कलम, अपराजिता फूल, नारियल चढ़ाएं।

कर्क- लाल कलम, इत्र, अभ्रक चढ़ाएं।

सिंह- पीली कलम, लाल फूल, अभ्रक चढ़ाएं।

कन्या- गुड़, अबीर, इत्र चढ़ाएं और पुस्तक दान करें।

तुला- नीली कलम, पंचामृत, गुलाबी अबीर, इत्र चढ़ाएं।

वृश्चिक- सफेद रेशमी वस्त्र, मौसमी फल, गंगाजल चढ़ाएं।

धनु- सफेद चंदन, अबीर, पीले फूल चढ़ाएं।

मकर- अरवा चावल, दही, फूल माला, शहद चढ़ाएं.

कुंभ- खीर, पीला अबीर, इत्र चढ़ाएं।

मीन- सफेद वस्त्र, पीले फूल, घी अर्पित करें।

WhatsApp Follow Me
Telegram Join Now
Instagram Follow Me

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top