इस मंत्र से करें मां सरस्वती की पूजा, प्रसन्न होंगी ज्ञान की देवी, विद्यार्थियों को मिलेगा मनचाहा वरदान

बसंत पंचमी का त्योहार इस साल 14 फरवरी को मनाया जाएगा. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है। साथ ही इस दिन मां सरस्वती की पूजा भी की जाती है। आइए जानते हैं इस दिन क्या करना चाहिए और क्या नहीं। इस बार सरस्वती पूजा पर रेवती और अश्विनी नक्षत्र के साथ शुभ योग बन रहा है. मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन ही मां सरस्वती का जन्म हुआ था। इस दिन कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

सरस्वती पूजा नजदीक है इसलिए इस मौके पर अपने बच्चों को देवी सरस्वती की पूजा करने की याद दिलाएं. कम से कम पहला श्लोक हम सभी को अनिवार्य रूप से याद रखना चाहिए और प्रतिदिन पढ़ना चाहिए…

श्री सरस्वती स्तोत्र
या कुन्देन्दुतुषारहार्धवला या शुभ्रावस्त्रवृत्त
या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासन।
या ब्रह्मच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवै: सदा वंदिता
सा माँ पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाद्यपहा ॥1॥
आशासु राशिभवदंगवल्ली
भासैव दसिकृतदुग्धासिंधुम्।
मन्दास्मितैरनिन्दित्सरदेनदुन
वन्देऽरविन्दासनसुन्दरी त्वम् ॥2॥
शारदा शरदंभोज-
वदना वदनाम्बुजे।
सर्वदा सर्वदास्माकं
सन्निधिम् सन्निधिम् क्रियत् ॥3॥
सरस्वती च ता नौमि
वाग्धिष्ठात्रदेवताम्।
देवत्त्वं प्रतिपद्यन्ते
यदनुगृहतो जनाः ॥4॥
पतु नो निरसिग्रवा
मतिहेमना:सरस्वती।
अतिरिक्त प्रकरण
वाचसैव करोति वा ॥5॥
शुक्ल ब्रह्मविचारसारपरमामाद्यं जगदव्यापिनी
वीणापुस्तकधारिणीमभ्यदं जाद्यन्धकारपहम्।
हस्ते स्फटिकमालिकान् च दधाति पद्मासने संस्थिता
वन्दे ता परमेश्वरी भगवती बुद्धिप्रदं शारदम्॥6॥
वीणाधरे विपुलमंगलदानशीले
भक्तार्तिनाशिनि विरंचिहरिषावन्द्ये।
कीर्तिप्रदेखिलमणोरथदे महरहे
विद्याप्रदायिनी सरस्वती नौमि नित्यम्॥7॥
श्वेतब्जपूर्णविमलासनसंस्थिति हे
श्वेतांबरवृतमानोहरमनजुगत्रे।
उद्यानमनोज्ञसितपंकजमंजुलास्ये
विद्याप्रदायिनी सरस्वती नौमि नित्यम्॥8॥
मतस्त्वद्यपादपंकजभक्तियुक्त
ये त्वां भजन्ति निखिलनापरान्विहाय।
ते निर्जरात्वमिह यन्ति कलेवरेण
धरती
अपने हृदयों को अंधकार से भर दो
माँ: सदैव कुरु वासमुदरभावे।
शिवखिलावयवनिर्मलसुप्रभाभिः
शीघ्र विनाश
ब्रह्म जगत सृजति पालयतीनदिरेषाः
शम्भुर्विनशयति देवि तव प्रभावैः।
न स्यात्कृपा अगर तव प्रकटप्रव्ये
न स्युः कथन्चिदपि ते निजकार्यदक्षः ॥11॥
लक्ष्मीर्मेध धारा पुष्टि-
रगौरी तुष्टिः प्रभा धृतः।
एताभि पाहि तनुभि-
राष्ट्रभिर्मा सरस्वती॥12॥
सरस्वत्यै नमो नित्यम्
भद्रकाल्य नमो नमः।
वेदवेदांतवेदांग-
विद्यास्थानेभ्य एवच ॥13॥
सरस्वती महाभागा
विद्ये कमललोचने।
विद्यारूपे विशालाक्षी
विद्या देहि नमोस्तु ते॥14॥
यदक्षरं पदं भ्रष्टम्
मात्रहीनं च यद्भवेत्।
तत्सर्वं क्षमायताम् देवि
प्रसिद्ध देव॥15॥
, इति श्री सरस्वती स्तोत्रम् सम्पूर्णम्।

WhatsApp Follow Me
Telegram Join Now
Instagram Follow Me

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top