14 फरवरी को है सरस्वती पूजा, जानिए ज्ञान की देवी को कौन सा प्रसाद चढ़ाना चाहिए

बसंत पंचमी पर मां सरस्वती को क्या चढ़ाएं? पूजन सामग्री की सूची नोट कर लें: बसंत पंचमी का त्योहार वसंत ऋतु के आगमन के रूप में मनाया जाता है। इसके साथ ही इस त्यौहार का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। हर साल बसंत पंचमी के अलावा माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि का दिन भी मां सरस्वती की जयंती के रूप में मनाया जाता है।

इस बार बसंत पंचमी 14 फरवरी 2024 को मनाई जाएगी. पौराणिक मान्यता के अनुसार, इसी दिन जगत कल्याण के उद्देश्य से मां सरस्वती का जन्म हुआ था. तभी से मां सरस्वती को ज्ञान की देवी के रूप में पूजा जाता है। बसंत पंचमी के दिन मां शारदा का प्राकट्य होने के कारण उनकी पूजा का विशेष महत्व है।

इसके साथ ही बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को प्रसन्न करने और उनकी कृपा का पात्र बनने के लिए इस दिन उनकी पूजा में उनकी पसंदीदा चीजें जरूर चढ़ाएं। साथ ही पूजा विधि के अनुसार उनकी पूजा में कौन सी सामग्री होनी चाहिए इसके बारे में भी आज हम आपको विस्तार से सब कुछ बताने जा रहे हैं.

बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को ये चीजें अर्पित करें

खीर का भोग- बसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती की पूजा के दौरान केसर युक्त चावल से बनी खीर का भोग लगाएं. पूजा विधि के अनुसार मां सरस्वती को खीर अत्यंत प्रिय है। इसे चढ़ाने के बाद प्रसाद के रूप में बांटने से सुख-सौभाग्य में वृद्धि होती है।

बूंदी के लड्डुओं का भोग – ज्ञान की देवी मां सरस्वती को प्रसन्न करने के लिए बसंत पंचमी के दिन उनकी पूजा में प्रसाद के रूप में बूंदी के लड्डुओं का भोग अवश्य लगाएं. मां सरस्वती की कृपा से आपको जीवन में अपार सफलता मिलेगी।

केसर का हलवा– मां सरस्वती की पूजा में केसर का विशेष महत्व है. उनकी पूजा में केसर से बनी वस्तुएं अर्पित करने से मां की असीम कृपा प्राप्त होती है। ऐसे में आपको इस दिन मां शारदे को केसर हलवे का भोग लगाना चाहिए। माता के आशीर्वाद से आपके जीवन की सभी परेशानियां दूर हो जाएंगी।

नारियल की बर्फी– हर देवी-देवता की पूजा के दौरान हम उन्हें नारियल का भोग लगाते हैं. अगर आप पूजा के दौरान मां सरस्वती को नारियल की बर्फी का भोग लगाएं तो यह अत्यंत फलदायी होगा। मान्यता है कि नारियल से बनी बर्फी का भोग लगाने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। ऐसे में यह विकल्प आपके लिए फायदेमंद साबित होगा।

फूल और सूखे मेवे– बसंत पंचमी के त्योहार के दिन आप देवी शारदे की पूजा करते समय उन्हें फल और सूखे मेवे भी चढ़ा सकते हैं. पूजा विधि के अनुसार देवी मां को फल और सूखे मेवे चढ़ाने से घर में आर्थिक बरकत आती है।

मां सरस्वती की पूजा सामग्री सूची: बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा सामग्री में इन चीजों का होना बहुत जरूरी है। पूजा विधि के अनुसार मां सरस्वती की पूजा में ये सामग्रियां होनी चाहिए।

माँ सरस्वती की मूर्ति. गंगा जल अथवा किसी तीर्थ नदी का जल। नैवेद्य. पूजा के लिए आसन. हल्दी, चंदन, कुमकुम या लाल रोली और सिन्दूर। मोगरा, बेला, चमेली आदि शंख का सुगंधित इत्र सर्वोत्तम होता है। सुपारी, सुपारी और अक्षत। आम के पत्ते. गाय का शुद्ध देशी घी, मिट्टी का दीपक और रुई की बाती। आरती के लिए कपूर. पीले रंग का कलावा या पीला कपड़ा। पूजा सामग्री में कमल का फूल, गुलाब, चमेली और पीले फूल जैसे पीले गेंदे के फूल या उसकी माला अवश्य शामिल करें। अगरबत्तियां। प्रसाद के रूप में मिठाइयाँ, मेवे और फल।

बसंत पंचमी पर मां सरस्वती की पूजा का समय: सरस्वती पूजा का समय- बुधवार, 14 फरवरी 2024, सुबह 7:01 बजे से दोपहर 12:35 बजे तक.

WhatsApp Follow Me
Telegram Join Now
Instagram Follow Me

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top